August 31, 2010

अकेला या अकेली

     बहुत दिन से दिल में इच्छा हो रही थी की मैं भी अपने विचारों को लोगों तक पहुचाऊं। इसके लिए मैं एक अच्छे मंच की तलाश में था। मेरे एक मित्र ने मुझे ब्लॉग लेखन का सुझाव दिया और अपने ब्लॉग का पता भी दिया। मित्र के ब्लॉग को देखने के बाद मुझे मेरी मंजिल दिखाई देने लगी। जरिया तो मुझे मिल गया अब बारी थी उसको एक पहचान देने की। मेरे मित्रों ने भी मुझे बहुत से सुझाव दिए। अंततोगत्वा ब्लॉग को पहचान के तौर पर अकेला कलम नाम मिला। चूँकि मैं 'राम की नगरी' से संबंध रखता हूँ, जहाँ बच्चों को व्याकरण की दृष्टी से शुद्ध हिन्दी का ज्ञान विरासत में मिलता है। आगे की शिक्षा-दीक्षा भी मैंने हिन्दी में विशेष दक्षता से पूरी की। इन सब कारणों से मुझे अकेला कलम नाम स्वीकार करने में असहजता महसूस होने लगी थी। मेरे गुरु जी ने भी इसको व्याकरण की दृष्टी से गलत ठहराया। अकेला कलम की एक सच्चाई यह भी है की मैंने इसको मिटा दिया था और अपने नाम से एक नए ब्लॉग (Satya`s Blog) को पहचान दी। फिर क्या था अकेला कलम की उलझन तो दूर हो गई। परन्तु अब ये अकेला कलम मैं और मेरे मित्रों के बीच बहस का मुद्दा बन गया। कुछ पक्ष में थे तो कुछ इसके विपक्ष में। इस बहस का हल ये निकला की मैं त्रुटि को नजरंदाज करके अकेला कलम को वापस ले आया। धीरे-धीरे अकेला कलम की आदत सी होने लगी। मेरे कुछ स्वजन समय-समय पर मेरी इस त्रुटि को ताजगी प्रदान करते रहे हैं। हाल ही में राजेश उत्साही जी तथा अख्तर खान अकेला साहब ने भी मेरा ध्यान इस त्रुटि की ओर आकृष्ट करने की खुबसूरत पहल की। जिनका मैं तहे-दिल से शुक्रगुजार हूँ।
     अब मैं इस प्रकरण पर आप सब को आदरणीय मानते हुए यह चाहता हूँ की आप सभी लोग मेरी सहायता करें। आप सभी के बहुमूल्य विचारों को मैं सर्वोपरि मानकर अनुसरण करूँगा। इस ब्लॉग का नाम अकेला कलम (जो की व्याकरण की दृष्टी से सही नहीं है) ही होना चाहिए या फिर अकेली कलम होना चाहिए। मैंने आप सब को अपना मानकर दिल की बात आप सब के सामने पेश कर दी। अब आप अपने विचारों के माध्यम से मुझे इस प्रकरण का हल निकालने में मेरी सहायता करें। 
धन्यवाद सहित। 
- सत्यप्रकाश पाण्डेय




44 comments:

  1. ....अकेला कलम ठीक ही है!...क्यों कि कुछ अलग सा लगना ब्लॉग के आकर्षण में बढोतरी करेगा!..मेरे ब्लॉग 'मेरी माला,मेरे मोती..' का नाम मैने पहले 'mala motion ki...' रखा था!..किसी ने मेरा ध्यान इस तरफ खिंचा कि इंग्लिश में मोतियों के स्पेलिंग 'motion'हास्यास्पद लग रहे है!..मैने ब्लॉग का नाम तुरन्त बदल दिया!...कभी कभी ऐसा भी होता है!

    ReplyDelete
  2. अकेला कलम कुछ जम नहीं रहा..........

    ReplyDelete
  3. अपने गुरु ओर अपने बडो की सलाह माने यही उचित है,

    ReplyDelete
  4. आपने लिखा की आकेला कलम व्याकरण की दृष्टि से अशुद्ध है ...

    कलम शब्द .... आज भी भ्रमित किये हुए है ...यह पुल्लिंग के रूप में भी प्रयोग होता है ...ऐसी ही दुविधा को लेकर मैंने भी ब्लॉग में एक पोस्ट डाली थी ..आप यहाँ पढ़ें ..

    http://geet7553.blogspot.com/2010/02/blog-post_20.html

    अकेला कलम सही लगने लगेगा

    ReplyDelete
  5. अकेले एहसास hi ker dijiye na , sara dwand khatm

    ReplyDelete
  6. अकेला तो केला होता है. कलम अकेली हो सकती है.
    सिर्फ अलग दिखाने के लिए आप गलत को चुनें, मैं इसे ठीक नहीं समझता.
    ब्लॉग का पता तो बदल नहीं सकते, नाम ही बदल सकते हैं.

    ReplyDelete
  7. "कलम अकेली" रख लें...अलग भी है और व्याकरण की दृष्टि से सही भी...:))
    नीरज

    ReplyDelete
  8. @संगीता जी
    संगीता जी कलम शब्द को लेकर इनती उठापटक हो गई की मैंने कलम को स्त्रीलिंग ही मान लिया,
    आपने तो कलम (पु.) के बहुत से सुबूत दिए हैं अपने लेख में,
    लेख को पढ़ कर मनोबल बढ़ गया,
    शुक्रिया !!

    ReplyDelete
  9. यदि आप लोग भी संगीता स्वरुप (गीत) जी के लेख को पढना चाहते हैं तो नीचे के लिंक पर क्लिक करें:-
    कलम आपकी या आपका

    ReplyDelete
  10. मुझे तो बहुत बढ़िया लगा! आप नीरज जी की सलाह मान सकते हैं! सभी बहुत बड़े बड़े लेखक हैं और ठीक कह रहे हैं!

    ReplyDelete
  11. मुझे तो अकेला कलम ही ठीक लग रहा है जब मैंने ये पहली बार पढ़ा तो मुझे ये अच्छा ही लगा और अगर अब इसे बलदा जायेगा तो जरुर अजीब लगेगा !

    ReplyDelete
  12. भले ही "कलम अकेली" हो... मुद्दा पचलन का है.
    जब लल्लू व रबड़ी चल निकलने में सफल हो सकते हैं तो कुछ भी चल सकता है :)

    ReplyDelete
  13. साहिर जी का एक गाना सुना था। उसमें उन्होंने कहा है
    "क़लम हाथ से छूट जाता तो होगा!"
    क्या वो भी ग़लत थे?

    ReplyDelete
  14. हां, एक बात बताना छूट गया --
    यह क़लम है।
    कलम नहीं।

    ReplyDelete
  15. मुझे तो 'एक अकेली कलम' ठीक लगती है या फिर 'अकेली कलम' भी चलेगी.

    ReplyDelete
  16. पाण्डेय जी ,
    प्रवीण जी की बात मान लें !

    ReplyDelete
  17. akela chalaa thaa main...tha main...tha main... main aayaa akelaaaaaaaaa mere sang-sang aayaa tere kalam ke shabdon ka melaa....chaddo yaa yaar ki farak paindaa....aap to bas ji rache jaao... maalaa shabdon kee...varmala ban jaaye yah blog tumhara....!!!!

    ReplyDelete
  18. सत्‍य प्रकाश जी ,
    संगीता जी की उक्‍त पोस्‍ट पर मुझे ये दो टिप्‍पणियां मिलीं हैं। आपने भी देखी ही होंगी। इन दो संवादों से सारी बात साफ हो जाती है। आगे आप जैसा उचित समझें।

    अजित वडनेरकर, 3/04/2010 6:39 PM
    भाषा लगातार परिवर्तित होती है। व्याकरण व स्वरूप भी लोकसंस्कारों के आधार पर तय होता है। हम जिस कलम का भाषा में प्रयोग करते हैं वह बरास्ता अरबी, फारसी हिन्दी में दाखिल हुई। उर्दू में अरबी, फारसी का संस्कार है सो वहां क़लम पुल्लिंग सही है किन्तु हिन्दी जनमानस ने कलम ने हिन्दी की लेखनी वाला भाव ग्रहण करते हुए इसे स्रीवाची संज्ञा माना है। इसमें कोई संशय नहीं होना चाहिए कि हिन्दी में जो कलम है उसका प्रयोग स्रीवाची की तरह ही किया जाना सही है। भाषा में हमेशा ध्यान रहना चाहिए कि लोकप्रिय उच्चारण, प्रयोग ही टिकते हैं। व्याकरण और ग्रंथों से ढूंढ ढूंढ कर बहुत से तथ्य तलाशे जा सकते हैं जो हमारी भाषा को अशुद्ध करार दे सकते हैं। किन्तु इसका कोई औचित्य नहीं है। हमारे कोशकारों ने भी अभी तक कोई ऐसा कोश नहीं बनाया है जो शुद्ध अशुद्ध से हटकर प्रचलित और लोकप्रिय उच्चारण को सही ठहराने की हिम्मत करते हुए आम लोगों का मार्गदर्शन करता हो।
    sangeeta swarup, 3/04/2010 10:45 PM
    अजीत जी,

    आज आपकी प्रतिक्रिया पा कर मन संतुष्ट हुआ....वैसे तो मैंने भी मान ही लिया था कि हिंदी में कलम को स्त्रीलिंग के रूप में ही प्रयोग किया जाना चाहिए...पर किसी के टोकने पर ही ये बात मस्तिष्क में आई और अपने संशय निवारण हेतु ही मैंने इसे पोस्ट बना कर ब्लॉग पर डाला था ...आपका बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  19. लीजिए मुझे भी दो शब्‍दकोश मिल गए जिनमें कलम को स्‍त्रीलिंग बताया गया है। एक है नागरी प्रचारणी सभा,काशी द्वारा 1971 में प्रकाशित संक्षिप्‍त हिंदी शब्‍दसागर,जिसे रामचंद्र वर्मा द्वारा संपादित किया गया है। दूसरा है कमल प्रकाशन का मानक विशाल हिंदी शब्‍दकोश जिसे कृष्‍णकांत दीक्षित और सूर्यनारायण उपाध्‍याय ने संपादित किया है। जानेमाने भाषाविद् डा.भोलानाथ तिवारी ने अपनी किताब 'अच्‍छी हिंदी- कैसे बोलें कैसे लिखें में ऐसे अनेक शब्‍दों की चर्चा की है जिनमें स्‍त्रीलिंग या पुर्लिंग का झगड़ा है। यह किताब लिपि प्रकाशन से है।

    ReplyDelete
  20. @उत्साही जी
    उत्साही जी बहुत-बहुत शुक्रिया मार्गदर्शन करने के लिए,
    आशा करता हूँ की भविष्य में भी इसी तरह आपका मार्गदर्शन मिलता रहेगा

    ReplyDelete
  21. दोस्त
    मैं भाषा और व्याकरण के पचड़े में न पड़कर सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि कलम कभी अकेली नहीं होती
    कलम के साथ बहुत लोग होते हैं और कलम भी बहुत से ईमानदार लोगों का साथ देती है.
    कलम जो मेरी है.. कैसा रहेगा

    ReplyDelete
  22. यहाँ यह बहस मुझे बेमानी लगती है कि कलम अकेली हो या अकेला,क्योंकि व्याकरणिक द्रष्टि से तौलेंगे तो ब्लॉग-लेखन का कार्य दुरूह हो जाएगा. वैसे भी कलम चूंकि ताकत का प्रतिक है तो 'अकेला'कहने में ज्यादा वज़न और ताकत आती है.....

    ReplyDelete
  23. इतने बड़े बड़े लोगों ने चर्चा की है तो मैं कुछ नहीं कह सकती ये चर्चा पढ़ कर कुछ सीख ही रही हूँ

    ReplyDelete
  24. जरा मनोज कुमार जी और संतोष त्रिवेदी जी की बात पर गौर फरमायें ।
    वैसे ’तंन्हा कलम’ ,’कलम की बात ’’कलमनामा ’या फिर ’बोल कलम के ’आदि पर भी विचार कर सकते हैं ।

    ReplyDelete
  25. aapki is post se hmara bhi bhut gyan vrdhn hua . comments ne sone pe suhage ka kam kiya . hum sub aise hi ek dusre se sikhte hai. bhut achchha lgta hai

    ReplyDelete
  26. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  27. ....जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई!.... सब मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  28. अरे छोडिये न इतना कन्फयुजन में काहे फसना । कुछ इधर गौर फरमाईये ...
    तीखी कलम
    कलम के वार
    कलम के पुजारी
    कलम_वीर
    बेजुबानों की कलम
    पैनी कलम
    एक कलम एैसी भी

    ReplyDelete
  29. धारदार कलम!
    (मेल-फीमेल का पचड़ा ही ख़तम! क्यूँ? हो गया ना....!)
    आशीष
    --
    अब मैं ट्विटर पे भी!
    https://twitter.com/professorashish

    ReplyDelete
  30. अकेला कलमकार

    ये कैसा रहेगा?

    ReplyDelete
  31. ..
    जब कलम आपके साथ है तो फिर ,न ही आप अकेले हैं, न ही आपकी कलम ।

    " मैं और मेरी कलम "

    आभार।

    ..

    ReplyDelete
  32. यदि अकेला कलम के आगे कुछ बिंदु लगा दिए जाएँ ( अकेला कलम........) तो चला आ रहा नाम चलता रहेगा और व्याकरण दोष भी नहीं रहेगा |अकेला कलम ( चलाने वाला / ले जा रहा/ का गुलाम) आदि कुछ भी हो सकता है | हाँ 'क़लम' नहीं, 'कलम' ही चलने दें | हिन्दी में कलम ही प्रचलित है |

    ReplyDelete
  33. कलम की इतनी व्याख्या ...पढ़कर काफी ज्ञान मिला....हिंदी में जो प्रचलित है उसे ही मानना आज की आवश्यकता है......जहां तक हो सके भाषा को मजबूती प्रदान करना ही हमारे उद्धेश्य होना चाहिए...न कि अनावश्यक प्रयोग करके उसे कमजोर कर दें. जो भाषा पहले ही काफी कराह रही है......
    लोगो ने इतनी राय दी है अब बाकी आपकी मर्जी....

    पर बेहतर है जल्दी निर्णय लें ताकि असली काम पर आप आ सकें....

    ReplyDelete
  34. अब तक तो आपकी दुविधा खत्म हो गई होगी ।

    ReplyDelete
  35. hmm..tanha kalam ...mera vote bhi rakesh ji ko :)

    ReplyDelete
  36. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !

    ReplyDelete
  37. ab tak to sabhi ke salaah aa gaye aur mujhe kahne ki jaroort nahi kuchh ,sangeeta ji ka saboot sabhi sandeh ko mita diya .kai fayde huye is charcha se .uttam .

    ReplyDelete

तेजी से भागते हुए कालचक्र में से आपके कुछ अनमोल पल चुराने के लिए क्षमा चाहता हूँ,
आपके इसी अनमोल पल को संजोकर मैं अपने विचारों और ब्लॉग में निखरता लाऊंगा।
आप सभी स्नेही स्वजन को अकेला कलम की तरफ से हार्दिक धन्यवाद !!

Related Posts with Thumbnails