August 26, 2010

पुनरागमन

वर्षों से दबा हुआ , 
एक जीवित , 
मृत व्यक्ति , 
उठ खड़ा हुआ, 
वह आज , 
कर रहा था , 
वर्षों से अपनी , 
चेतना का विकास । 
परिपक्व हो उठा , 
नहीं जरुरत उसको , 
किसी के मार्गदर्शन की , 
करके प्रण वह , 
जीवित व्यक्ति हो 
उठा है , पुनः जीवित , 
अबकी कर देगा 
तहस - नहस , उन लोगों को 
जिसने , जीते जी 
कर दिया , उसको 
मृत सदृश ।

38 comments:

  1. जीवित व्यक्ति ...जो मृतप्राय: था ..फिर जीवित हो उठा ...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. ओह, अच्छी लगी आशावादिता। अन्यथा लगता नहीं कि मृतप्राय उठ्ठेगा और क्रांति कर देगा।
    बहुत देखा क्रांतियों को कॉम्प्रोमाइज करते।

    ReplyDelete
  3. बहूत खूब!...इतनी वेदनाएं वह कब तक सहन करता रहेगा!...बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  5. .
    It seems you have gone through a phase of realization and a realized soul truly becomes revolutionary !

    I believe in the beautiful lines you have created.
    .

    ReplyDelete
  6. प्रभावशाली अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  7. अच्छी रचना ...प्रभावशाली ।

    ReplyDelete
  8. मृतप्राय जब उठता है तब उसके पास खो देने के लिये कुछ बचता नहीं है।

    ReplyDelete
  9. अच्छी रचना जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. अबके कर देगा
    तहस-नहस , उनलोगों को
    जिसने जीतेजी कर दिया उसे
    मृत सदृश्य ....

    हर कवी में आक्रोश होना जरुरी है .....
    और वो आपकी इस रचना में नज़र आ रहा है ......बधाई ....!!

    ReplyDelete
  11. पुनरागमन जिजीविषा की कविता लगी. भावयति पर नज़र डालने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. जिस जिजीविषा ने उसे पुनः जीवित किया है वही उसे उन परिस्थितियों ,जिनके कारण वह मृतप्राय हुआ था, को तह नहस कर के पुनर्निर्माण कर सकती है.

    ReplyDelete
  13. ज्ञान भैया के शब्द में अपने शब्द मिलाती हूँ मैं...

    उर्जा से उत्प्लावित बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  14. पहले तो मैं आपका तहे दिल से शुक्रियादा करना चाहती हूँ मेरे ब्लॉग पर आने के लिए और टिपण्णी देने के लिए!
    बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! इस शानदार और उम्दा रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  15. punaragaman...bahut achchi uttam abhivyakti.aur bhi padhna chahungi.keep writing.

    ReplyDelete
  16. kalpana ki tajgi rachna mein dikh rahi hai

    ReplyDelete
  17. गहरी सोच लिए रचना है .. आक्रोश है इस रचना में ... जीवन पाने की ललक है ....

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...बधाई.
    ____________________
    'पाखी की दुनिया' में अब सी-प्लेन में घूमने की तैयारी...

    ReplyDelete
  19. शुक्रिया सत्‍यप्रकाश जी ब्‍लाग पर आने के लिए । यहां आकर भी अच्‍छा लगा। सुंदर भाव लिए है आपकी कविता। शायद पहले भी किसी ने आपका ध्‍यान इस ओर खींचा हो कि आपके ब्‍लाग का नाम अकेला कलम है। मेरे हिसाब से उसे अकेली कलम होना चाहिए। क्‍योंकि व्‍याकरण के लिहाज से कलम स्‍त्रीलिंग है।

    ReplyDelete
  20. @ उत्साही जी,
    उत्साही जी सुझाव देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद,
    जब से अकेला कलम वजूद में आया तब से यह विचार मेरे मन में उथल पुथल मचाये हुए है की "अकेला" ठीक रहेगा या फिर "अकेली", मेरे कुछ स्नेही स्वजनों ने कहा शीर्षक कुछ ऐसा होना चाहिए जो भीड़ से अलग हो, मुझे भी लगा हाँ सही बात है भीड़ में अलग दिखने के लिए कुछ तो उल्टा करना पड़ेगा,
    मैंने नामकरण तो कर दिया पर फिर भी मैं खुद भी इस शीर्षक को स्वीकार करने में असहजता महसूस कर रहा हूँ, और इस मुद्दे का हल ये निकला की उद्देश्य शीर्षक नहीं मुख्य उद्देश्य तो अपने विचारों को उजागर करना है और इस तरह यह मुद्दा हासिये पर चला गया, आज फिर यह मुद्दा उठा है तो अब इसको हल करने के लिए आप सभी का सहयोग आपेक्षित है।
    कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव दें।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर सकारात्मक अभिव्यक्ति। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  22. सत्य प्रकाश पाण्डेय जी

    चेतना के बाद का आक्रोश अवश्य रंग लाएगा ।
    शुभकामनाओं सहित …

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  23. qlm akeli hi hoti he jo top or misaayl hi nhin prmaanu bm se bhi zyaadaa taaqtvr khtrnaak hoti he iskaa istemaal prmaanu bm ki trh jntaa ke fayde ke liyen bhi kiyaa jaata he or iska durupyog jntaa ke vinaash ke liyen prmaanu bm ki trh bhi kiya jaa kta he bdhaayi ho bhaayi khub likhaa he men heraan rh gyaa. akhtar khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  24. अबकी कर देगा
    तहस - नहस , उन लोगों को
    जिसने , जीते जी
    कर दिया , उसको
    मृत सदृश ।
    Ye hui na baat!

    ReplyDelete
  25. Ise kahte hain jijivisha!Behad sundar rachana!

    ReplyDelete
  26. achhi rachana ke liye badhai......
    prernadayi panktiyan hain.

    ReplyDelete
  27. वाह !!! कितने अच्छे विचार है .

    ReplyDelete
  28. दबी हुई चेतना है जो मृत व्यक्ति की भांति पड़ी रहती है...उम्मीद जगाती आपकी कविता की ये सोयी चेतना जग जाएगी..

    ReplyDelete
  29. एक भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर विचारों से सजी रचना ..बधाई.
    ________________
    'शब्द सृजन की ओर' में 'साहित्य की अनुपम दीप शिखा : अमृता प्रीतम" (आज जन्म-तिथि पर)

    ReplyDelete
  31. blog to bahut sundar hai aapka ...

    visvas hai bahut kuchpadhne ko milega.

    ReplyDelete
  32. अबकी कर देगा
    तहस - नहस , उन लोगों को
    जिसने , जीते जी
    कर दिया , उसको
    मृत सदृश ।

    badhiya...to the point baat kahi

    ReplyDelete
  33. चोट खाए इस इंसान के इरादे बड़े खतरनाक लगते हैं।

    ReplyDelete
  34. apni yah behtareen rachna vatvriksh ke liye bhejen

    ReplyDelete
  35. bahut sundar likha hai apne, apke lekh wicharottejak bhi hai aur anukarniy bhi! mera sadhuwad.kripya mere blog ko follow karen.

    ReplyDelete
  36. पुनरागमन को आप वटवृक्ष तथा
    चर्चा मंच पर भी पढ़ सकते हैं।

    ReplyDelete

तेजी से भागते हुए कालचक्र में से आपके कुछ अनमोल पल चुराने के लिए क्षमा चाहता हूँ,
आपके इसी अनमोल पल को संजोकर मैं अपने विचारों और ब्लॉग में निखरता लाऊंगा।
आप सभी स्नेही स्वजन को अकेला कलम की तरफ से हार्दिक धन्यवाद !!

Related Posts with Thumbnails