July 22, 2010

बचपन के दिन

     बचपन के दिनों को याद करके मैंने दो साल पहले शब्दों के माध्यम से उस सुनहरे पल को इकठ्ठा करने की कोशिश की थी, और वो कोशिश आज पहली बार आप सब के सामने प्रस्तुत है:


याद आते हैं वो बचपन,
बड़ा तड़पाते है वो बचपन
वो माँ के गोद में लोरियां सुनना,
और सुनते ही रहना।
वो बारिश में भीगना,
और माँ का डाँटना।
याद आते हैं वो बचपन,
बड़ा तड़पाते हैं वो बचपन।
रेत के घरों को बनाना,
और गिरते हुए देखकर अफ़सोस 
जाताना - " उफ़ ! फिर गिर गया। "
कागज़ की नावों को बनाना,
और बारिश की बूंदों के बीच चलाना
डूबने पर फिर नई नाव बनाना
याद आते हैं वो बचपन,
बड़ा तड़पाते हैं  वो बचपन

12 comments:

  1. बहुत याद आते हैं वो बचपन,

    ReplyDelete
  2. ये तो बहुत अच्छा लिखा है. मैं तो यही सब करती हूँ.

    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  3. Sach mein bachpan ke din pyare lagte hai..
    Bachpan ke dinon kee yaad taaji karne ke liye dhanyavad

    ReplyDelete
  4. सही कहा...बचपन के दिन भी क्या दिन थे...उड़ते फिरते तितली बन...
    नीरज

    ReplyDelete
  5. बचपन बड़ा प्यारा होता है,
    सबका ही दुलारा होता है।

    ReplyDelete
  6. लाजवाब ... क्या खूब है ....बचपन की यादें इंसान को हमेशा गुदगुदाती हैं ... अच्छे से बुना है आपने इनको रचना

    ReplyDelete
  7. बहुत खूब ,बार बार आती है मुझको मधुर याद बचपन तेरी ......

    ReplyDelete
  8. सही बात है बचपन को कोई कभी भी नहीं भूल सकता है.

    ReplyDelete
  9. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "हिन्दप्रभा" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  10. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "हिन्दप्रभा" (Hindprabha) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  11. nice poem........bachapan to abhinn ang hai vyktitv ka......
    sunder prastuti .

    ReplyDelete

तेजी से भागते हुए कालचक्र में से आपके कुछ अनमोल पल चुराने के लिए क्षमा चाहता हूँ,
आपके इसी अनमोल पल को संजोकर मैं अपने विचारों और ब्लॉग में निखरता लाऊंगा।
आप सभी स्नेही स्वजन को अकेला कलम की तरफ से हार्दिक धन्यवाद !!

Related Posts with Thumbnails